सपा-बसपा के गठबंधन पर उमा भारती ने मायावती की जान को बताया खतरा

केन्द्रीय मंत्री उमा भारती झांसी पहुंची। जहां उन्होंने गठबंधन को लेकर कहा कि जो कांशीराम और मुलायम सिंह के समय गठबंधन हुआ था वह काफी मजबूत था। उस गठबंधन का जो हाल हुआ था वह इतिहास में दर्ज है। इस गठबंधन के बाद से वह काफी चिंतित है कि मायावती का उनके पास कभी भी फोन आ जायेगा क्योंकि ब्राह्मदत्त द्विवेदी तो अब हैं नहीं। रेेस्टहाउस कांड जो हुआ था उसमें ब्राह्मदत्त द्विवेदी ने जान पर खेलकर मायावती की जान बचाई थी।

सपा-बसपा के गठबंधन पर उमा भारती ने मायावती की जान को बताया खतरा 

मायावती का कहना था कि उनकी जान ही नहीं बल्कि इज्जत भी खतरे में थी। आज उन्हीं के साथ वह हाथ मिलाए हुए हैं। इससे समझा जा सकता है कि हमसे कितना डर लग रहा है भ्रष्टाचारियां और अपराधियों को। यह गठबंधन कितने दिन चल पायेगा यह तो आने वाला समय ही बतायेगा। मीडिया वाले उनके घर के लोग है उनका मोबाइल नम्बर मायावती को भिजवा दो। जैसे ही उन पर संकट आये वह उन्हें फोन करे तो वह उन्हें बचाने आ जायंेगीं। वह दिन किसी भी समय आ सकता है। उन्हें तो लगता यह समय टिकट वितरण के समय ही आ जायेगा। इसके साथ ही उमा भारती ने दाबा करते हुए कहा कि गठबंधन के बाद भी यूपी में पूरी सीटों पर उन्हें ही जीत मिलेगी।

ओम प्रकाश राजभर के बयान यदि उनकी शर्तें नहीं मानी गई तो वह यूपी की सभी सीटों पर चुनाव लड़ेगे पर उमा भारती ने कहा कि राजभर बहुत भोले आदमी हैं। राजभर समुदाय काफी भोला और मेहनती होता है। सनील बसंल सब संभाल लेंगे। लोकतंत्र में सभी को बोलने का अधिकार है। उनकी पार्टी के लोग अंदर कहते है राजभर गठबध्ंन के है वह बाहर से कहते हैं। बोलने पर किसी का गला नहीं दबा देंगे कि वह नहीं बोल पायें। वह हमारे साथ खड़े हैं।

सपा-बसपा गठबंधन से कांग्रेस को बाहर रखने पर उमा भारती ने कहा कि उन्हें राहुल गांधी पर दया आती है गठबंधन ने उनके लिए केवल दो सीटें छोड़ी हैं। इससे बुरी स्थिति क्या हो सकती है। कांग्रेस को यह गलतफहमी हो गई थी कि मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ और राजस्थान में जीत गये। यहां कांग्रेस नहीं जीती बल्कि हम हारे हैं। हमने गलतियां की तो हम हार गये। राहुल जी को अपनी गलतफहमी ठीक कर लेना चाहिए। वह कहीं भी नहीं जीते हैं हम हारे हैं लिए वह जीते हैं। अब हम उन कमियों को ठीक कर लेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *