भ्रूण हत्या के मामले अल्ट्रासाउंड संचालक डॉक्टर को हरियाणा पुलिस गिरफ्तार कर ले गई

शाहजहांपुर चौक कोतवाली क्षेत्र के कच्चा कटरा मोड़ सत्यानंद अल्ट्रासाउंड सेंटर पर अचानक हरियाणा की पुलिस ने छापा मार दिया। पुलिस को देख कर मरीजो में हड़कंप मच गया।

 भ्रूण हत्या के मामले अल्ट्रासाउंड संचालक डॉक्टर को हरियाणा पुलिस गिरफ्तार कर ले गई 

पुलिस ने अल्ट्रा साउंड संचालक डॉ सत्य प्रकाश मिश्रा और यहाँ काम करने बाले दो अन्य लोगो को भ्रूण हत्या के मामले में गिरफ्तार कर चौक कोतबाली ले गई।हरियाणा पुलिस के छापे की खबर लगते ही भाजपा नेता और डॉक्टर बहा पहुच गए। डॉक्टर को छुड़वाने का हर प्रयास किया। लेकिन उनकी एक न चली और हरियाणा पुलिस सभी को अपने साथ ले गई।बही डॉक्टर के घर बाले इस मामले में कुछ भी बोलने से मना कर रहे है।फिलाल सत्यानन्द अल्ट्रा साउंड सेंटर पर ताले लगा दिए गए है।

घटना चौक कोतबाली  थाना क्षेत्र के  कच्चा कटरा मोड़  स्थित सत्यानंद अल्ट्रासाउंड  सेंटर की है ।यह पर डॉ सत्यप्रकाश मिश्रा  अल्ट्रा साउंड सेंटर पर मरीजों का अल्ट्रासाउंड कर रहे थे।  रोज की तरह सेंटर पर अल्ट्रा साउंड कराने बालो की लंबी लाइन लगी थी।तभीअचानक से सेंटर के सामने एक  एक कर  तीन गाड़ियां आकर रुकी। इनमें दो गाड़ियों में पुलिस कर्मी थे और एक गाड़ी में लड़की का परिवार था। सेंटर के अंदर जैसे ही पुलिस पहुंची वहां हड़कंप मच गया।

पुलिस टीम ने अंदर घुसते ही डॉक्टर को अपनी हिरासत में ले लिया और उनसे पूछताछ करने के साथ ही सेंटर से मेडिकल से जुड़े जरूरी दस्तावेज भी कब्जे में ले लिए। कार्रवाई कर पुलिस टीम डॉक्टर को लेकर कोतवाली पहुंची। बताते हैं कि तभी पीछे से भाजपा के एक नेता भी अपने कार्यकर्ताओं के साथ पहुंच गए और डॉक्टर को छोड़े जाने का दबाव बनाने लगे। इस पर पुलिस टीम ने उन्हें कोर्ट का वारंट दिखाकर छोड़ने से मना कर दिया।

इसके बाद पुलिस टीम उन्हें लेकर हरियाणा चली गईए हालांकि इस दौरान भाजपा नेता ने पुलिस टीम का बरेली मोड़ तक अपनी गाड़ी से पीछा भी किया लेकिन पुलिस टीम  उन्हें लेकर जा चुकी थी। बताते हैं कि पुलिस डॉण् के साथ दो अन्य लोगों को भी ले गई है। हालांकि स्थानीय पुलिस इस मामले में कुछ भी जानकारी होने से इंकार कर रही है।

जानकारी के अनुसार डॉ सत्यानंद मिश्रा समेत दो लोगों के खिलाफ हरियाणा के जिला गुरुग्राम के शिवनगरा थाने में एक युवती ने भ्रूण हत्या का मामला दर्ज था। इसी सिलसिले में डॉण् की पुलिस को तलाश थी। इसलिए पुलिस ने एक दिन पहले ही यहां डेरा जमा लिया था। फिलाल इस मामले में घर बाले कुछ भी पता होने से इंकार कर रहे है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *