पुलिस की हिरासत में 25 दिन से खड़ी बस में लापता व्यक्ति का शव मिलने पर अफरा-तफरी मच गई

मृतक की पहचान कवि नगर थाना क्षेत्र के राजापुर मोहल्ले के निवासी राजपाल के रूप में हुई, जो 31 जनवरी से लापता था। इस व्यक्ति की गुमशुदगी भी शिकायत भी इस पुलिस स्टेशन में दर्ज की गई थी, थाने के बाहर कुछ दूरी पर में शव मिला।

 पुलिस की हिरासत में 25 दिन से खड़ी बस में लापता व्यक्ति का शव मिलने पर अफरा-तफरी मच गई

गाजियाबाद के थाना कवि नगर के पास पिछले 25 दिनों से थाने के बाहर पुलिस की हिरासत में खड़ी बस में लापता व्यक्ति का शव मिलने पर अफरा-तफरी मच गई । थाने के बाहर खड़ी बस में शव मिलने की सूचना मिलने पर पुलिस ने घटना की जांच की तो एक शख्स का शव बस की सीट पर पड़ी हुई थी।

पुलिस ने मृतक के शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। मृतक की पहचान कवि नगर थाना क्षेत्र के राजापुर मोहल्ले के निवासी राजपाल के रूप में हुई, जो 31 जनवरी से लापता था। इस व्यक्ति की शिकायत भी इस पुलिस स्टेशन में दर्ज की गई थी, जहाँ से कुछ दूरी पर शव मिला था थाने के बाहर बस से सौ मीटर दूर।

बताया जा रहा है कि मृतक शिक्षा विभाग में कर्मचारी था। पुलिस ने मृतक के परिजनों को सूचना दी तो परिजनों के होश उड़ गए। मृतक के परिजनों ने आरोप लगाया है कि 31 जनवरी को अचानक लापता होने के बाद गुमशुदगी दर्ज की गई थी लेकिन पुलिस ने कोई ठोस कार्रवाई नहीं की। परिजनों ने बताया कि थाने के सामने पुलिस की हिरासत में बस में शव कैसे मिला।

मृतक के परिजनों का आरोप है कि उनके आने से पहले मृतक के शव को पोस्टमॉर्टम के लिए भेजा गया था, लेकिन मृतक के परिजनों के आने के बाद ही मृतक के शव को पोस्टमॉर्टम के लिए भेजा जाना चाहिए।

मृतक के परिजनों के अनुसार, 31 तारीख को जब वह ड्यूटी से घर से बाहर गया, तो उसके कुछ सहयोगियों ने उसे गाजियाबाद के शास्त्री नगर चौराहे पर छोड़ दिया। लेकिन उसके बाद उनका कुछ पता नहीं चला। पुलिस ने सोमवार रात परिवार को सूचित किया कि उनका शव शहर के पुलिस स्टेशन के बाहर खड़ी बस में मौजूद है। लाश पर कई तरह के निशान पाए गए हैं। आशंका है कि हत्या कर लाश को इस बस में ठिकाने लगाया जाएगा।

पुलिस मामले की जांच में जुटी है, हालांकि, पोस्टमार्टम के बाद ही मौत की असली वजह सामने आ पाएगी। मृतक के परिजन पुलिस पर लापरवाही का आरोप लगा रहे हैं, यह महत्वपूर्ण है कि कवि नगर पुलिस ने कुछ समय पहले एक बस को सील कर दिया था और उस बस को पुलिस की निगरानी में थाने के बाहर खड़ा किया गया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *