मथुरा यूनिवर्सिटी के होस्टल में लटका मिला एमबीए की छात्रा का शव

मथुरा जीएलए यूनीवर्सिटी के गोदावारी गेस्ट हाउस मे सुबह करीब 9 बजे  एमबीए फ़ाइनल ईयर की छात्रा का शव  होस्टल में लटका मिला

मथुरा यूनिवर्सिटी के होस्टल में लटका मिला एमबीए की छात्रा का शव  

हॉस्टल में रह रही एमबीए फ़ाईनल ईयर की छात्रा का शव संदिग्ध परिस्थिति में फांसी के फंदे पर लटका मिला । होस्टल में छात्रा का शव मिलने से स्कूल प्रशासन में हड़कंप मच गया। सुचना पर घटना  स्थल पर पहुंची पुलिस और फॉरेंसिक टीम  जाँच में जुटी है। छात्रा के परिजनों यूनिवर्सिटी प्रशासन पर लापरवाही का आरोप लगते हुए जाँच की मांग की है।पुलिस ने शव कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम को भेज दिया है।

मथुरा के वृन्दावन थाने क्षेत्र के जीएलए यूनीवर्सिटी के गोदावारी गेस्ट हाउस मे सुबह करीब 9 बजे  एमबीए की फ़ाइनल ईयर की छात्रा आरती का शव संदिग्ध अबस्था में कमरे के पंखे में फाँसी के फंदे पर लटका मिला। आरती पुत्री तेजवीर निवासी मधुनगर आगरा की रहने बाली

थी।छात्रा की मौत से कॉलेज प्रशासन मे हडकम्प मच गया ण्कॉलेज प्रशासन ने घटना जानकारी स्थानीय पुलिस को दी। घटनास्थल पर पहुंची पुलिस ने फ़ोरेन्सिक टीम के साथ मिलकर घटना की जांच शुरू कर दी। वही घटना की सूचना कोलेज प्रशासन ने परिजन को भी दे दी।   घटनास्थल पर परिजन भी पहुंच गए। लेकिन कॉलेज प्रशासन ने मीडिया को घटना स्थल पर जाने से रोक दिया। वही पुलिस घटना को प्रथन दृष्ट्या आत्महत्या मान रही है। घटनास्थल पर म्रतक छात्रा के फ़ोन से भी डिटेल कलेक्ट की जा रही है।

आखिर छात्रा के मौत के पीछे की वजह क्या है। पुलिस ने छात्रा के शव का पंचनामा भर पोस्टमार्टम भेज दिया। अगर छात्रा ने आत्महत्या की है तो वो क्या बजह थी जिसके चलते छात्रा को आत्महत्या करने के लिए मजबूर होना पडा।अभी कई अनसुलझी पहली है जिनको पुलिस सुलझाने में लगी हुई है। लेकिन सवाल यह उठता है कि आखिरकार घटना स्थल पर मीडिया को जाने से क्यो रोका गया। आशंका जताई जा रही है कि छात्रा  की मोत की बजह कुछ एसी हो सकती है जिससे कॉलेज प्रशासन कटघरे मे खडा हो सकता है। अब देखना यह होगा कि पुलिस छात्रा की मोत खुलासा कब तक करती है।

वहीं छात्रा के पिता तेजवीर का कहना है कि मेरी मौत बेटी की मौत के पीछे यूनिवर्सिटी प्रशासन की लापरवाही है। बेटी की मौत की सही तरीके से जांच होनी चाहिए ।और जो लापरवाह है उन पर कार्रवाई होनी चाहिए ।हम लोग मेहनत कर पैसा इकट्ठा करते हैं ।मैंने करीब 5 से 6 लाख रुपए कॉलेज को दिया है ।मैं आर्मी कैप्टन रिटायर हूं ।मैं अपनी बेटी के लिए इंसाफ चाहता हूँ।बेटी की मौत की खबर मुझे कॉलेज प्रशासन की तरफ से नहीं मिली पुलिस ने मुझे घटना की जानकारी दी। फिलाल पुलिस ने मृतक छात्रा के काल डिटेल के आधार पर छात्रा के साथ पढ़ने वाले एक साथी को पूछताछ के लिये हिरासत में ले लिया

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *