लखनऊ केजीएमयू के ट्रॉमा सेंटर में मरीज की मौत पर हंगामा

लखनऊ में एक घायल युवक की जान इसलिए चली गयी उसके परिजनो ने डॉक्टर से ऊची आबाज से  इलाज के लिए बोल दिया। जिस पर डॉक्टर मरीज का इलाज न करने की ज़िद पर अड़ गया।
लखनऊ केजीएमयू के ट्रॉमा सेंटर में मरीज की मौत पर हंगामा
डॉक्टर ने साफ कहे दिया कि अब वो किसी भी हालत में उसका इलाज नही करेंगे ।परिजन रोते रहे और माफी मांगते रहे लेकिन डॉक्टर नही माना और मरीज़ की स्ट्रेचर पर ही बिना इलाज की मौत हो गयी। मरीज की मौत के बाद परिवार बालो ने अस्पताल में जमकर हंगामा किया ।
केजीएमयू प्रशासन ने पूरे मामलें  तीन सदस्यीय टीम से जाँच कराई जा रही है। दरअसलए कानपुर रोड पर स्थित हरिओम नगर में रहने वाले 20 वर्षीय अश्वनी का शनिवार की रात स्कूटर इंडिया चौराहे के पास एक्सीडेंट हो गया था। उसके सिर हाथ व पैर पर गंभीर चोटे आईं थी। आनन-फानन में उसे ट्रामा सेंटर लाया गया। यहां पर घायल अश्वनी के साथ उसके दूसरे दोस्त भी थे। आरोप है कि यह दोस्त डॉक्टरों से अश्वनी का इलाज शुरू करने के लिए गिड़गिड़ाने लगे। जब डॉक्टर बहुत देर तक नहीं आए तो उसमें से एक युवक डॉक्टर से तेज आवाज में बोलते हुए इलाज के लिए कह दिया । डॉक्टर से तेज आवाज में बोलने पर डॉक्टर ने इलाज करने से साफ इनकार कर दिया। अश्वनी के परिवारीजन डॉक्टरों के सामने हाथ पैर जोड़ते  गिड़गिड़ाते रहे। लेकिन डॉक्टर का दिल नहीं पसीजा। घायल मरीज ने स्टेचर पर ही तड़प तड़प कर दम तोड़ दिया।
परिजनो ने शव लेकर आलमबाग स्थित नहरिया चौराहे पर रखकर प्रदर्शन किया। परिजनों ने डॉक्टर पर आरोप गया है कि उन्होंने अपने अहम के चलते मरीज को नहीं देखा। जिसकी वजह से ही उसकी मौत हो गई। मुख्यमंत्री आदित्यनाथ ने घटना का संज्ञान लेकर केजीएमयू प्रशासन को कड़ी फटकार लगाई है। उधर कुलपति ने जांच के लिए कमेटी गठित कर आरोपी डॉक्टर पर कार्रवाई करने के निर्देश दिए हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *