कुंभ मेले में पहले शाही स्नान पर करोडो श्रद्धालुओं ने लगाई आस्था की डुबकी

प्रयागराज में आज से कुंभ मेले का शुभारंभ हो गया मकर संक्रांति के अवसर पर बड़ी संख्या में श्रद्धालुओं ने संगम की त्रिवेणी में आस्था की डुबकी लगाई

कुंभ मेले में पहले शाही स्नान पर करोडो श्रद्धालुओं ने लगाई आस्था की डुबकी

उत्तर प्रदेश के प्रयागराज में आज से कुंभ मेले का शुभारंभ हो गया। मकर संक्रांति के अवसर पर बड़ी संख्या में श्रद्धालुओं ने संगम की त्रिवेणी में आस्था की डुबकी लगाई। वहीं गाजे-बाजे के साथ अखाड़े भी अपने निर्धारित समय के मुताबिक संगम में शाही स्नान के लिए पहुंच रहे हैं।

परम्परा के अनुसार सबसे पहले महानिर्वाणी अखाड़े  के आचार्य महामंडलेश्वर, साधु संत और नागा सन्यासी ने सुबह 6:15 बजे शाही स्नान किया। इसके बाद निरंजनी और आनंद अखाड़े ने शाही स्नान किया।

तीसरे क्रम में जूना अखाड़े के साथ ही अग्नि और आवाहन अखाड़े के साधु संतो ने शाही स्नान किया।इसके बाद वैष्णव अणी अखाड़े दिगम्बर, निर्मोही और निर्वाणी अखाड़ा ने शाही स्नान किया।इसके बाद दोनों बैरागी अखाड़े नया उदासीन और बड़ा उदासीन अखाड़े ने शाही  स्नान किया और सबसे अंत में निर्मल अखाड़े के साधू संतो ने शाही स्नान किया। संगम तट पर लगे कुम्भ में शाही स्नान के दौरान साधू संतो और श्राद्धलुओ पर हेलीकाप्टर से पुष्प बर्षा की गई।इस दौरान बहा का औलोकिक दृश्य देखने लायक था।

शाही स्नान के दौरान आम श्रद्धालुओं के लिए निर्धारित संगम ज़ोन क्षेत्र प्रतिबंधित  कर दिया गया।यहाँ आये आम श्रद्धालुओं के लिए अलग घाट की व्यवस्था की गई है।कुंभ में श्रद्धालुओं की भीड़ को देखते हुये सुरक्षा के व्यापक इंतजाम किए गए हैं। बही कुंभ में श्राद्धलुओ की भीड़ को देखते हुए 450 साल  बाद खोला गया अक्षयवट में प्रवेश दो दिनो के लिए बंद कर दिया गया। 15 और 16 जनवरी को श्रद्धालु अक्षयवट के दर्शन नही कर सकेंगे। कुंभ मेले की सुरक्षा के लिए चप्पे चप्पे पर सुरक्षा कर्मी मुस्तैद है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *