दिल्ली-एनसीआर में बूंदाबांदी ने बढ़ाई सर्दी, ठंड की जद में पूरा उत्तर भारत

पूरा उत्तर भारत इस समय ठंडे मौसम की जद में है। जबकि जम्मू और कश्मीर, उत्तराखंड और हिमाचल प्रदेश में भारी बर्फबारी ने यहां जीवन की गति को रोक दिया है।

दिल्ली-एनसीआर में बूंदाबांदी ने बढ़ाई सर्दी, ठंड की जद में पूरा उत्तर भारत

पूरा उत्तर भारत ठंडे मौसम की जद में है। जबकि जम्मू और कश्मीर, उत्तराखंड और हिमाचल प्रदेश में भारी बर्फबारी ने यहां जीवन की गति को रोक दिया है। लगातार गिर रहे पहाड़ियों पर पड़ने वाली बर्फ, जहां मैदानी इलाकों में मौसम का पारा गिरा दिया है, वहीं, दिल्ली-एनसीआर में रविवार की सुबह हल्की बूंदाबांदी ने सर्दी बढ़ा दी है।

स्नोफ्लेक ने यातायात को पूरी तरह से रोक दिया

दरअसल, इस समय जम्मू कश्मीर, उत्तराखंड और हिमाचल प्रदेश में भारी बर्फबारी हो रही है। आलम यह है कि देश के ये तीन राज्य बर्फ की चादर में तब्दील हो चुके हैं। जबरदस्त बर्फबारी का कश्मीर घाटी के लोगों की दिनचर्या पर बड़ा असर पड़ा है। यहां बर्फबारी से यातायात पूरी तरह ठप हो गया। सड़कों पर वाहनों की लंबी कतारें लगी हैं, जिसने लोगों को परेशानी में डाल दिया है। यही कारण है कि बर्फबारी के कारण शनिवार से श्रीनगर हवाईअड्डे पर जाम लग गया। हालांकि, दोपहर के बाद, श्रीनगर अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे पर शनिवार दोपहर को उड़ानों का संचालन फिर से शुरू हो गया। भारी बर्फबारी के कारण हवाई अड्डे पर परिचालन 24 घंटे के लिए बंद कर दिया गया था, जिसे शनिवार दोपहर को फिर से शुरू किया गया।

हवाई अड्डे पर उड़ानें फिर से शुरू

हवाई अड्डे के अधिकारियों ने कहा कि रनवे साफ हो जाने और दृश्यता में सुधार के बाद, दोपहर में श्रीनगर हवाई अड्डे पर उड़ानों के संचालन को फिर से शुरू किया गया। एक अधिकारी के अनुसार, आज हवाई यातायात फिर से शुरू होने के साथ, इस हवाई अड्डे से पांच उड़ानें संचालित की गईं। निम्नलिखित तीन उड़ानें यहां उतरीं, जबकि शुक्रवार से रद्द दो उड़ानों को उड़ान भरने की अनुमति दी गई।

भारी बर्फबारी के कारण श्रीनगर अंतर्राष्ट्रीय हवाईअड्डे पर आने वाली सभी उड़ानें दोपहर के बाद बाधित हो गईं थीं। वहीं, श्रीनगर में उतरे जहाज मौसम खुलने का इंतजार कर रहे हैं। घने बर्फबारी के कारण जम्मू-श्रीनगर राष्ट्रीय राजमार्ग बिल्कुल चोक हो गया है। हालांकि, सड़कों से बर्फ हटाने का काम जारी है। लेकिन बर्फबारी थमने का नाम नहीं ले रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *