उर्दू के गिरते स्तर पर अखिल भारतीय उर्दू शिक्षक संघ प्रथम प्रान्तीय अधिवेशन

शाहजहांपुर: जनपद के अखिल भारतीय उर्दू शिक्षक संघ के उर्दू सेमिनार का आयोजन एक मैरिज हाल में आयोजित हुआ जिसमें प्रदेश भर के उर्दू शिक्षाविदों के साथ सभी जनपदों के शिक्षक संघ के जिलाध्यक्ष व उनकी कमेटी के लोगो ने शिरकत की  सेमिनार में दिनों दिन घटते उर्दू के चलन पर चिंता जाहिर की गई और उर्दू अपने पुराने मुकाम पर कैसे पहुचे उस चर्चा की गई ।

उर्दू के गिरते स्तर पर अखिल भारतीय उर्दू शिक्षक संघ प्रथम प्रान्तीय अधिवेशन
सेमिनार में अखिल भारतीय उर्दू शिक्षक संघ के प्रदेश अध्यक्ष चौधरी वासिल हसन मुख्य अतिथि रहे ।चौधरी वासिल हसन ने कहा कि एक जमाना था कि बिना उर्दू के कोई काम नही चलता था। यहां तक कि सारे सरकारी काम उर्दू में किये जाते थे जिसकी मिसाल आज भी आप देख सकते पुराने सरकारी दस्तावेज जो उर्दू में ही मिलेंगे इसी वजह से हमारे देश की सरकारों ने भी उर्दू को आगे बढ़ाने के लिए हिदुस्तान की दूसरी ज़बान का दर्जा दिया हर मज़हब के लोग उर्दू को अपनाते थे और अपने बच्चों को उर्दू की तालीम दिलाते थे इसी को देखते हुए उर्दू भाषा को सरकारी स्कूलों के कोर्स में शमिल किया गया उर्दू विषय के टीचरों की नियुक्ति की गई ।
मगर आज अफसोस की बात सिवाए मदरसों के हर जगह से उर्दू मिटती जा रही है सिर्फ हमारी वजह से क्यो की आज हम लोग अपनी जबान को अहमियत ना देते हुए कान्वेंट में अपने बच्चों को तालीम के लिए भेजने में फक्र महसूस करते है ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *