मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना से 175  गरीब जोड़ो की हुई शादी ।

मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना से 175  गरीब जोड़ो की हुई शादी ।
बाराबंकी मुख्यमंत्री का ड्रीम प्रोजेक्ट में गरीबो की शादी कराना भी एक सपना था।इसी को ध्यान में रखते हुए प्रदेश सरकार के समाज कल्याण मंत्री रमा पति शास्त्री की उपस्थिति में बाराबंकी स्थित जीआईसी ऑडिटोरियम में मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना के अंतर्गत 175 जोड़ों का सामूहिक विवाह कार्यक्रम आयोजित किया गया। समाज कल्याण विभाग की तरफ आयोजित इस  सामूहिक विवाह कार्यक्रम में सभी जाति धर्म के जोड़ों का विवाह संपन्न हुआ। कार्यक्रम में पहुँचे रमापति शास्त्री के साथ भाजपा विधायकों सतीश शर्मा व शरद अवस्थी, डीएम उदयभानू त्रिपाठी, एसपी वीपी श्रीवास्तव, सीडीओ अंजनी कुमार, समाज कल्याण अधिकारी ललिता यादव ने नव विवाहित जोड़ों को अपना आशीर्वाद प्रदान करते हुए उनके बेहतर भविष्य की कामना की।
प्रदेश सरकार में समाज कल्याण मंत्री रमापति शास्त्री ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की प्रशंसा करते हुए कहा कि पहले गरीबी रेखा से नीचे जीवन-यापन करने वाले अपने बेटे-बेटियों की शादी नहीं कर पाते थे। मुख्यमंत्री ने इस बारे में गम्भीरता से विचार किया और सामूहिक विवाह योजना की शुरुआत की। अब सभी की शादी बिना किसी हिचकिचाहट के हो रही है। अब गरीब अपनी बेटी की शादी के लिए चिंतित नहीं होता, अब कोई भी शादी से वंचित नहीं रहता। हिन्दू, मुस्लिम, सिख और ईसाई सभी धर्मों के जोड़ों की शादी सरकार करा रही है। जब तक सभी की शादी नहीं हो जाती तब तक सरकार शादी की पूरी व्यवस्था करती रहेगी। उन्होंने सभी नव विवाहित जोड़ों को आशीर्वाद दिया।
 रमापति शास्त्री ने बताया कि सरकार की तरफ से हर जोड़े की शादी पर ₹35000 रुपये खर्च किए जाते हैं। जिसमें 20 हजार रुपए वधू के खाते में, 10 हजार रुपए का ग्रहस्थ आश्रम में प्रवेश करने वाले वर बधू को गृहस्थी का सामान और 5000 रुपये खाना और अन्य व्यवस्थाओं पर खर्च किए जा रहे हैं। मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना के अंतर्गत हिंदुओं के साथ ही मुस्लिम जोड़ों की भी शादी सम्पन्न कराई गई। कुल 175 जोड़ों में से 18 मुस्लिम जोड़ों की भी शादी कराई गई। बिना किसी ख़र्च के सम्पन्न हुई शादी से नव विवाहितों के चेहरे तो खिले ही, उनके परिजन भी काफी खुश नजर आए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *